2023 में जिले की सभी 6 सीटों को जीतकर लाने बूथ स्तर पर करनी होगी मेहनत: प्रदेश अध्यक्ष मरकाम

Spread the love

छत्तीसगढ़ में 2023 विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज ही गयी हैं। सभी पार्टियां चुनावी मोड़ में आकर अपने कार्यकर्ताओं की खैर पूछने में लग गयी हैं।

बिलासपुर में मंगलवार को कांग्रेस पार्टी ने जीती सीट पर आंतरिक रोष व हारी हुई 4 सीटों में कार्यकर्ताओं को साधने और पूछ परख के लिए सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम में कार्यकर्ताओं को रिचार्ज करते हुए उन्हें 2030 की तैयारियों में लग जाने के लिए कहा। बिलासपुर जिले की 6 विधानसभा को जीतने के लिए ताकत झोंक देने की बात कही। राजीव मितान योजना से युवाओं को जोड़ने में रुचि नहीं दिखाने वाले संगठन पदाधिकारियों की क्लास लगाते हुए नाराजगी जताई। मरकाम ने मंच से कहा विधायक सहित जनप्रतिनिधियों से कहा सत्ता व संगठन में समन्वय को बनाये रखें। मरकाम ने बेलतरा विधानसभा में लगातार हो रही हार पर रणनीति बनाकर जमीनी स्तर पर काम करने की हिदायत दी, इसके साथ ही इस विधानसभा सहित अन्य गैर कांग्रेसी जीत वाली सीट पर जीत सुनिश्चित करने की बात कही।प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया ने कार्यकर्ताओं को संगठन के साथ मजबूती से ज़मीनी स्तर पर काम करने की अपील की। मंत्री शिव डहरिया ने संगठन से जुड़े नेताओं व कार्यकर्ताओं को बूथ स्तर पर काम करने की नसीहत दी। साथ ही यह भी कहा 2023 में सरकार बनेगी तो जनता और कार्यकर्ता का काम होगा। सम्मेलन में सभी विधानसभा से आए कार्यकर्ताओं ने अपनी बात रखी। इस बीच हूटिंग और शोर करने पर मोहन मरकाम ऐसे व्यवहार करने से मना किया। आला नेताओं के सामने कार्यकर्ताओं ने उनके काम नही होने की शिकायत की। इस बीच शहर अध्यक्ष विजय पांडेय व ग्रामीण कांग्रेस विजय केशरवानी ने कार्यकर्ताओं को शोरगुल न करने और संयमित करने का काम करते नज़र आये। दरअसल ये पूरी कवायद जिले में बिलासपुर और तखतपुर विधानसभा को छोड़कर अन्य मस्तूरी, बेलतरा, कोटा और बिल्हा में कांग्रेस को मिली हार को जीत में तब्दील करने के लिए की जा रही है।सम्मेलन में प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया, प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम, नगरीय प्रशासन मंत्री शिव डहरिया और प्रदेश के प्रभारी सचिव सप्तगिरि उल्का मौजूद रहे।

fieldreport