हाईकोर्ट ने किया फैमिली कोर्ट का आदेश खारिज, याचिकाकर्ता को गिरफ्तारी से मिली राहत

फील्ड रिपोर्ट बिलासपुर। उच्च न्यायालय ने याचिकाकर्ता को सुनाए गए परिवार न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दी है। इस फैसले के बाद याचिकाकर्ता के नाम से जारी अरेस्ट वारंट को रद्द कर दिया गया है। दरअसल मामला पारिवारिक विवाद का है।

जिसे लेकर सुनील कुमार श्रीवास्तव की पत्नी सरिता श्रीवास्तव ने परिवार न्यायालय में परिवाद दायर किया था। मासिक भत्ता नहीं दिए जाने के मामले को लेकर परिवार न्यायालय में 20 जून 2019 को सुनील श्रीवास्तव के नाम अरेस्ट वारंट जारी कर दिया था। इस फैसले को चुनौती देने के लिए अधिवक्ता संघर्ष पांडे के माध्यम से उच्च न्यायालय बिलासपुर में याचिका लगाई गई थी।

जिस पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति शरद कुमार गुप्ता की पीठ ने गिरफ्तारी वारंट को रद्द कर दिया गया है। याचिकाकर्ता के वकील संघर्ष पांडे ने बताया कि उच्च न्यायालय ने आदेश में यह कहा है कि धारा 125 (3) और सीआरपीसी की धारा 421 नियमों का पालन नहीं किया गया है। वकील संघर्ष पांडे ने बताया कि कोर्ट ने यह भी कहा कि याचिकाकर्ता ने अपनी बेटी की आईसीआईसीआई बैंक की पे-स्लिप के लिए दिया आवेदन कंसीडर किया जाना था।

Related posts