आदिवासी नेता ने मांगी पुलिस से सुरक्षा.. अजीत जोगी जाति मामले में मचे बवाल के बीच लगाये गंभीर आरोप..

फील्ड रिपोर्ट बिलासपुर। “छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी से मुझे जान का खतरा है” यह कहना है आदिवासी नेता संत कुमार नेताम का। इस मामले को लेकर हद तो तब हो गई जब आदिवासी नेता ने पुलिस से खुद के लिए सुरक्षा की मांग की और पुलिस ने उन्हें सुरक्षा देने से इनकार कर दिया। यह हाई प्रोफाइल पॉलीटिकल ड्रामा तब हो रहा था जब छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है।

और संवैधानिक कार्रवाई के तहत संभव है कि उन्हें अपने विधानसभा सीट भी गंवानी पड़ सकती है। इन सबके बीच कभी कांग्रेस और कभी बीजेपी में सक्रिय आदिवासी नेता रहे संत कुमार नेताम ने खुद के जान को खतरे में बताते हुए अपनी जान की सुरक्षा मांगी है हालांकि संत कुमार नेताम को यह नहीं लगता कि पुलिस उन्हें कभी भी सुरक्षा देगी। क्योंकि पुलिस के पास उन्हें सुरक्षा नहीं देने के लिए जिस तरह के तर्क हैं वे बेतुके हैं। मसलन उनके पास फोर व्हीलर गाड़ी गाड़ी नहीं है लिहाजा वे चार सुरक्षा गार्ड को लेकर अपने साथ नहीं घूम सकते और यही कारण है कि पुलिस उन्हें सुरक्षा प्रदान करने से आनाकानी कर रही है। गौरतलब है कि संत कुमार नेताम वही आदिवासी नेता हैं जिन्होंने सबसे पहले अजीत जोगी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी उनकी जाति को चुनौती देने वाले यह सबसे पहले व्यक्ति हैं।

Related posts