नए जिले की बहुप्रतीक्षित मांग को सीएम भूपेश ने किया पूरा, अस्तित्व में आएगा 28 वां जिला

फील्ड रिपोर्टर(बिलासपुर)
बिलासपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पेंड्रा गौरेला क्षेत्र की बहुप्रतीक्षित मांग को आज पूरा कर दिया। मुख्यमंत्री भूपेश ने स्वतंत्रता दिवस के इस आयोजन को क्षेत्र के लोगों के लिए उत्सव के रूप में तब्दील कर दिया। मुख्यमंत्री भूपेश ने स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम के दौरान एक नए जिले की सौगात प्रदेशवासियों को दी। यह नया जिला पेंड्रा गौरेला मरवाही के रूप में प्रदेश की मानचित्र में नजर आएगा।

जिला मुख्यालय से 97 किलोमीटर की दूरी में बसे इस क्षेत्र में विकास थम गया था। पेंड्रा गौरेला मरवाही को संयुक्त कर जिले बनाने की मांग लंबे से लंबे समय से चली आ रही। इस मांग को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री ने अब 28 जिले होने की घोषणा कर दी है। कांग्रेस की प्रदेश में पहली सरकार थी जिस पर जिले की अनदेखी का आरोप लगता था। इसके बाद पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में 15 सालों में क्षेत्रवासियों ने जिले बनाने की आवाज को मुखर किया। लेकिन जिला बनना संभव नहीं हो पाया। प्रदेश में 15 सालों का वनवास काटने के बाद एक बार फिर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार ने जिले की मांग को पूरा करने का काम कर दिया है। पहले भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने घोषणा की थी कि हमारी सरकार इन 5 सालों अंदर पेंड्रा गौरेला मरवाही को जिले का सम्मान जरूर दिलाएगी। 15 अगस्त के दिन हुए घोषणा से पेंड्रा गौरेला मरवाही के लोगों में उत्साह उत्साह का माहौल है। इस घोषणा से क्षेत्रवासियों को विकास के स्वप्न अब आंखों में दिखने लगे हैं।

Related posts