छत्तीसगढ़ में बनी छत्तीसगढ़िया सरकार: सीएम भूपेश पिछली सरकार में गौशाला के नाम पर कुछ लोगों ने डकारे करोड़ों

*बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के त्यौहार और परंपराओं को विशेष पहचान दिलाने सरकार ने नवाचार किया है। छत्तीसगढ़िया संस्कृति को ध्यान में रखा गया है और इसी कारण पहली बार हरेली पर्व में अवकाश घोषित किया गया, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में हरेली पर्व को पारंपरिक तरीके से मनाया जा सके।* गुरुवार को उक्त बातें प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तखतपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत नेवरा के गौठान लोकार्पण के अवसर पर कहीं।

इस दौरान सीएम बघेल ने भौंरा घुमाया और गेड़ी पर भी चले। श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ियों की सरकार है।इसलिए छत्तीसगढ़ में जिन परंपराओं को मनाया जाता है, उन्हें पूरा ख्याल रखा जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने भाषण में पुरानी सरकार को घेरा और बताया कि पिछली सरकार में गौ शाला के नाम पर करोड़ो रूपये खर्च हुए। कुछ लोगों ने उस चारे को भी डकार लिया। छत्तीसगढ़ के वर्तमान सरकार इन सब बातों से दूर होकर गाय माता की सेवा करेगी और इसके लिए जो भी नीति अपनानी होगी। उसके लिए सरकार कटिबद्ध है।

किसानों को सम्मान मिले इसलिए हमने 2500 बोनस में धान खरीदा और किसानों का ऋण माफ किया। सरकार का उद्देश्य है कि गांव गांव की महिलाएं सब मजबूत हो छत्तीसगढ़ में चार चिन्हारी घुरवा गुरुवा नरवा और बारी यह छत्तीसगढ़ की चिनाहरी है और इसे ही हमें बचाना है। श्री बघेल ने कहा कि जहां पूरे देश में आर्थिक मंदी चल रही है, वहीं छत्तीसगढ़ में किसानों को ऋण माफी होने से ऑटोमोबाइल सेक्टर में जहां देश में 19% गिरावट आई है। वहीं छत्तीसगढ़ में 25 प्रतिशत अधिक ऑटोमोबाइल बिके हैं। इस अवसर पर अटल श्रीवास्तव, विधायक शैलेष पांडेय, विधायक रश्मि सिंह, नरेंद्र बोलर, राजेश तिवारी, जितेन्द्र पाण्डेय जगजीत सिंह मक्कड़, विवेक बाजपेयी, टेकचंद कारड़ा, जनपद अध्यक्ष नुरिता कौशिक सुरेश ठाकुर उपस्थित रहे।

Related posts