बिलासपुर हाईकोर्ट में नवनियुक्त मुख्य महाधिवक्ता ने रखा अपना पक्ष। इस विषय को लेकर राजनीतिक बयानबाजी भी शुरू।

0 बिलासपुर हाई कोर्ट में नए महाधिवक्ता की नियुक्ति।

0 पूर्व मुख्य महाधिवक्ता ने किया अपने इस्तीफे का खंडन।

0 लगातार सोशल मीडिया पर करते रहे पोस्ट।

0 नव नियुक्त मुख्य महाधिवक्ता ने खुद को रखा विवादों से अलग ।

0 जल्द होगी मुख्यमंत्री से मुलाकात-सतीश चंद्र वर्मा।

0 अमित जोगी ने मुख्यमंत्री पर साधा निशाना।

0 कहा- आसंवैधानिक तरीके से की जा रही नियुक्ति।

बिलासपुर हाई कोर्ट में नये महाधिवक्ता की नियुक्ति हो गई है और पुराने महाधिवक्ता ने अब तक अपने इस्तीफे की बात स्वीकारा नही की है। कुल मिलाकर देखा जाए तो एक तरफ राज्य सरकार ने महाधिवक्ता रह चुके कनक तिवारी को बाहर का रास्ता दिखा दिया है वही दूसरी तरफ विधि विभाग ने उन्हीं के जूनियर रहे सहायक महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा को नया मुख्य महाधिवक्ता नियुक्त कर दिया है । बिलासपुर हाईकोर्ट में ऐसा पहली बार हुआ है जब ऐसी स्थिति बनी है की एक ओर खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मुख्य महाधिवक्ता के इस्तीफे को स्वीकार कर उन्हें कार्यमुक्त करने की बात कह रहे हैं । साथ ही यह भी कह रहे हैं कि, महाधिवक्ता के द्वारा दिये गए प्रस्तावों पर भी सरकार गंभीरता से विचार कर रही है। दूसरी तरफ मुख्य महाधिवक्ता रहे कनक तिवारी ने सोशल मीडिया से लेकर मेन स्ट्रीम की मीडिया तक सभी जगह इस्तीफे की बात का खंडन किया है। देर रात तकरीबन 11 बजे तक इन्होंने फेसबुक पर अपनी प्रतिक्रिया और खंडन पोस्ट किया। इस बीच नये मुख्य महाधिवक्ता नियुक्त होने के बाद सतीश चंद्र वर्मा ने अपना पक्ष बड़े ही संतुलित ढंग से रखा है। इनकी मानें तो विधि विभाग से उन्हें एक पत्र प्राप्त हुआ है और वह इस आधार पर छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के नए महाधिवक्ता होंगे । इस सिलसिले में जल्द ही वे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात कर चर्चा करने वाले हैं। दूसरी तरफ लगातार हो रहे इस तरह के कंट्रोवर्सी से खुद को अलग रखते हुए सतीश चंद्र वर्मा ने यह साफ कर दिया कि कनक तिवारी को लेकर बनी विवाद की स्थिति पर वह कुछ भी नहीं बोलना चाहते। अलबत्ता इस विषय को लेकर अमित जोगी ने जो कि छत्तीसगढ़ के क्षेत्रीय पार्टी के शीर्ष नेताओं में से हैं अपना पक्ष रखा है उन्होंने बेबाक होकर प्रदेश के मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है।

Related posts