शिल्पकारों के हाथों में होता है जादू: मुख्यमंत्री डॉ. सिंह संस्कृति और विरासत को निरंतर आगे बढ़ाए: केन्द्रीय कपड़ा मंत्री श्रीमती ईरानी

राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कार समारोह 

  रायपुर .छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि हमारे देश के परम्परागत शिल्पकारों के हाथों में ऐसा जादू होता है कि वे दुनिया की साधारण से साधारण दिखने वाली चीजों को भी तराशकर बहुमूल्य कलाकृति बना देते हैं। डॉ. सिंह  आज राजधानी रायपुर में राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कार वितरण समारोह को मुख्य अतिथि की आसंदी से सम्बोधित कर रहे थे। समारोह की अध्यक्षता केन्द्रीय कपड़ा मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने की। समारोह का आयोजन केन्द्रीय कपड़ा मंत्रालय के हस्तशिल्प प्रभाग द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार के ग्रामोद्योग विभाग और राज्य हस्तशिल्प विकास बोर्ड के सहयोग से किया गया। मुख्यमंत्री ने समारोह में देश के विभिन्न राज्यों के जाने-माने आठ वरिष्ठ शिल्पकारों को शिल्पगुरू पुरस्कारों से और 25 शिल्पकारों को राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कारों से सम्मानित किया। ये पुरस्कार वर्ष 2016 के लिए घोषित किए गए थे। आज के समारोह को यादगार बनाने के लिए मुख्यमंत्री और केन्द्रीय मंत्री सहित सभी वरिष्ठजनों ने इन पुरस्कृत शिल्पकारों के साथ सामूहिक तस्वीर भी खिंचवायी। छत्तीसगढ़ के ग्रामोद्योग मंत्री श्री पुन्नूलाल मोहले और रायपुर के लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस सहित केन्द्र और राज्य सरकार के अनेक वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे। 

मुख्यमंत्री ने समारोह में सभी पुरस्कृत शिल्पकारों को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने उनके हाथों के हुनर की तारीफ करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में भी हस्तशिल्प की एक समृद्ध परम्परा है। यहां के हस्तशिल्प की ख्याति केवल राष्ट्रीय ही नहीं बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी है। छत्तीसगढ़ के हर जिले में परम्परागत हस्तशिल्प की अपनी विशेषताएं हैं। यहां के शिल्पकारों ने बेलमेटल, ढोकरा शिल्प, और काष्ठ कला , टेराकोटा सहित कई विधाओं में शोहरत हासिल की है।   

उन्होंने कहा कि  शिल्पकारों को अच्छा बाजार दिलाने के लिए राज्य शासन द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। उनकी कलाकृतियों की बिक्री के लिए हस्त शिल्प की बिक्री के लिए शबरी एम्पोरियमों की स्थापना की जा रही है। वर्ष 2003 में इनकी संख्या केवल सात थी जो आज बढ़कर 17 हो गयी है।

दिल्ली और अहमदाबाद में भी छत्तीसगढ़ के हस्तशिल्प के विक्रय के लिए शबरी केन्द्र प्रारंभ किए गए हैं। उन्होंने कहा कि शिल्पकारों के लिए दिल्ली हाट की तर्ज पर छत्तीसगढ़ हाट का निर्माण किया गया है, जहां शिल्पकार साल के सभी 365 दिन अपनी कलाकृतियों का प्रदर्शन और विक्रय कर सकते हैं। इससे शिल्पियों को एक कलाकृतियों की बिक्री का सुनिश्चित स्थान मिला है। उन्होंने कहा कि राज्य के उत्कृष्ट शिल्पकारों आर्थिक सहायता के रूप में प्रति माह पांच हजार रूपए की सहायता राशि भी दी जा रही है। इसके अलावा उन्हें अपने काम काज में वृद्धि के लिए तीन लाख रूपए तक कर्ज भी दिया जाता है। इसमें शिल्पकारों को डेढ़ लाख रूपए का अनुदान भी मिलता है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा शिल्पकारों को प्रशिक्षण के लिए भी देश के अन्य राज्यों में भेजा जाता है। प्रशिक्षण का पूरा खर्च सरकार वहन करती है। उन्होंने छत्तीसगढ़ माटी कला बोर्ड सहित राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में शिल्प की विशेषताओं की जानकारी दी। 

Related posts